सोमवार, अप्रैल 11, 2011

याद सीने में अटकी हुई है ,

ये आंसू तन्हाई के हैं 
साँसों का क्या है ,
ये आती हैं ,जाती हैं ,
एक तेरी याद है ,
जो  सीने में अटकी हुई है ,

मुझे रह -रह कर पुकार रहा  है कोई,
छिप -छिप कर निहार रहा है कोई ,
मैं अब मैं नहीं रहा शायद ,
मेरे भीतर जिन्दगी गुज़ार रहा है कोई ,
लगता है ये तेरी यादों का जंगल है ,
जहाँ मेरी रूह भटकी  हुई है, 

एक तेरी याद है ,
जो सीने में अटकी हुई है ,

कल की ही तो बात है ,
तेरा नाम किसी नें लिया था ,
किसी और को बुलानें के लिए , 
बस ये काफी था ,
मेरे तिनके नुमा दिल को जलने के लिए,
मैं सोचता हूँ ,
कि आँखों में अश्क भर-भर कर उड़ेलूँ
इस आग पर ,
पर क्या करूँ,
मेरी आँखों की मटकी चटकी हुई है ,

एक तेरी याद है,
 जो सीने में अटकी हुई है ,

तुझे पता है !
जिन्दगी तेरे बिना ,
अंधरे में घिरता हुआ एक चराग़ बन गई है ,
जब बसाया था दिल में तो शबनम थी ,
अब तेरी तस्वीर आग बन गयी है ,
तेरी याद में कब का फ़ना हो गया हूँ मैं ,
ये जान तो बस यूँ ही लटकी हुई है ,

एक तेरी याद है ,
जो  सीने  अटकी हुई है ,

तुम्हारा --अनंत
एक टिप्पणी भेजें