रविवार, नवंबर 13, 2011

भारतीय नारी .....

हाय !वो अभागी भारतीय नारी .....
आँखों में आँसू दिल में दर्द ,
जिसे मिला न कोई हमदर्द ,
पाई जिसने कदम-कदम पर लाचारी ,
हाय !वो अभागी भारतीय नारी ,
आँचल में छिपी ममता ,
बेबसी चेहरे पर तेरी ,
बहती रही  जो गंगा बन ,
न किसी ठावँ ठहरी ,
किसी ने पाप धोया ,
तो किसी ने गन्दगी ,
तो कभी जमाने ने कराई खुद की बन्दगी ,
कभी बेचीं गयी,कभी नोची गयी ,
कभी जला दी गयी बेचारी, 
हाय !वो अभागी भारतीय नारी ,

तुम्हारा --अनंत 

7 टिप्‍पणियां:

वन्दना ने कहा…

बहुत मार्मिक चित्रण किया है।

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

भारतीय नारी की सटीक हालत बयान की है ..

anurag anant ने कहा…

dhanyawaad vandana ji sangeeta ji ........

बेनामी ने कहा…

I look forward to reading more of your articles and posts in the future, so I’ve bookmarked your blog. When I see good quality content, I like to share it with others. So I’ve created a backlink to your site. Thank you!…
[url=http://sqwrodriguez.blog.com/]Weight Loss Ideas[/url].

बेनामी ने कहा…

Thanks on creating one of the most stylish blogs I have come across in a long time! It’s truly incredible how much you are able to take away from some thing simply because of how aesthetically gorgeous it is. Youve created a fantastic be site fantastic graphics , structure. site!
[url=http://www.bestairplanesimulatorgames.net]Flying simulator games[/url]

बेनामी ने कहा…

I just added your web page to my bookmarks. I enjoy reading your posts. Thank you!
[url=http://hearthealthydietplan.blogspot.com/]Heart Healthy Recipes[/url]

Rakesh Kumar ने कहा…

मार्मिक प्रस्तुति.

नववर्ष की आपको हार्दिक शुभकामनाएँ.

समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आईयेगा जी.