बुधवार, अप्रैल 06, 2011

चिमनी

कारखाने की चिमनियों से ,
निकलते हुए धुंए को देख कर ,
उसकी आँखें चमक उठी ,
और मेरी आँखें भीग गयी ,
चूँकि मेरे पेट का खाना इसी धुयें से हो कर ,
उसके पेट में गया है ,

ये धुयाँ है या फिर नली,
वो नली जिससे खून चूसा  जाता है,
तुम्हारा --अनंत 
एक टिप्पणी भेजें