बुधवार, दिसंबर 20, 2017

एक अधूरी सी कहानी..!!

एक अधूरी रात
अधूरा इश्क़
अधूरी ज़िंदगी

एक अधूरी मुलाकात
अधूरा ख़ुदा
अधूरी बंदगी

एक अधूरी वाह
अधूरी आह
अधूरी चाह है

एक अधूरी नदी
अधूरा समंदर
अधूरी थाह है

एक अधूरा सा कदम है
एक अधूरा सा सनम है
एक अधूरे से हम हैं

एक अधूरा सा ख़्वाब है
एक अधूरा सा जवाब है
एक अधूरा इन्तेख़ाब है

एक अधूरा सा अधूरापन अधूरा रह गया है
कोई अधूरी बात में अधूरी बात अपनी कह गया है
ये अधूरा खंडहर, अधूरा खड़ा, अधूरा ढह गया है
ये अधूरा सा अश्क़, अधूरा है, अधूरा बह गया है

यह अधूरापन पूरा कर रहा है जिंदगानी
क्या है मेरा तआरुफ़ जो पूछो ,तो बताऊं !
एक अधूरी सी व्यथा है, एक अधूरी सी कहानी ।।

अनुराग अनंत
एक टिप्पणी भेजें