मंगलवार, अगस्त 19, 2014

तो तुम मुझसे प्यार कर रहे होते !

अंधे जुगनुओं की बाढ़ में
डूबकर मरे सूरज की लाश पर
रोते हुए अधमरे दीपकों को
अगर तुम सुन सकते
तो तुम्हे पता चलता
कि प्रेम की सबसे सफल परिभाषा
कराहों का कोलाज ही है !

उलझे हुए भीतचित्रों में
उलझी हुई उलझन को
अगर तुम देख सकते
तो तुम्हे पता चलता
कि सच्चे प्रेमी के लहू में
जंग खाए हुए ब्लेड
और दीमकों की ख़ामोशी के सिवा
कुछ भी नहीं है !

तुम अगर चेहरों की चपेट में आए
भावों का भाव लगा सकते
तो तुम जान सकते
कि इनकी कीमत
ढहे हुए किले पर उगे
पीपल या बरगद के पेड़ से भी कहीं ज्यादा है !

अगर तुम्हे पता होता
एकांत के सहवास
और चुप्पी के सम्भोग से
पैदा हुए अवैध सन्नाटों की संताने
कहाँ रहतीं है ?
तो तुम मुझ तक पहुँच सकते थे !

अगर प्यास के पाँव पर पड़े छाले
और सफर में साथ चलते फासले
अपना दर्द कह सकते
तो मैं तुम्हे अपनी ठीक ठीक पहचान बता देता !

पर अफ़सोस
टूट कर प्यार करना
समय  की काँख में दबा होना होता है
और बहुत सारे
अगर और काशों की
मुठभेड़ में मारे गए आदमी का अंतिम बयान भी !

अगर तुम समझ सकते
कि कोई नहीं मरना चाहता
अगर और काशों की मार से

कोई नहीं चाहता टूटे हुए किले पर
बरगद या पीपल की तरह उगना

कोई नहीं चाहता
कि उसके खून में
जंग खाए हुए ब्लेड और दीमकों की ख़ामोशी बहे

कोई नहीं चाहता
सफर में प्यासे पाँव
फासलों को ढोते हुए चलना

कोई नहीं चाहता
समय की काँख में दबना

अगर तुम ये सब समझ सकते
तो तुम मुझसे प्यार कर रहे होते !

तुम्हारा-अनंत

एक टिप्पणी भेजें