सोमवार, फ़रवरी 14, 2011

maa

मै चला आया हूँ घर से , 
दो  आँख रोती होगी ,
एक गंगा सी बह रही होगी,
तो एक यमुना हो रही होगी ,
मचलता होगा एक मन , 
ये पूछने के लिए, 
कि आज क्या  खाओगे
सुबह उठने के बाद ,
बढ़ते होंगे दो बेकस कदम ,
मेरे कमरे कि तरफ ,
मुझे जगाने के लिए ,
और मेरा खाली बिस्तर देख कर ,
वापस आ जाते होंगे मायूसी ओढ़कर,
पूजा करते वक़्त जुड़ते होंगे दो हाँथ ,
और एक  मुंह,
 एक मन के साथ  मांगता होगा दुआ, 
मेरे लिए ,
रात को सोते  वक़्त,
एक माँ कलप कर मेरा नाम  ले लेती होगी,
मै चला आया हूँ घर से , 
दो आँख रोती होंगी ,
तुम्हारा--अनंत 
आप यदि घर से बहार है तो आप के घर पर भी दो आँख रोती होगी
 या फिर यदि आप अपने घर से जब कभी बहार जायेंगे ,तो कोई रोये चाहे न रोये दो आँख जरूर रोयेंगी ,
 इस कविता पर अपनी टिप्पड़ी जरूर दे ,

6 टिप्‍पणियां:

anurag anant ने कहा…

meri is kavita par tippdi jaroor kare.

Smita ने कहा…

bahut sundar panktiya hain anant......mere bhi dono bachche bahar hain abhi.....bilkul asa hi hota hai jiska jikr kiya hai tumne......

shri hariji ने कहा…

bahut acha mitra aap aise hi apna yogdan dete rahe

Meri aankhon se ने कहा…

gud anant ji keep it on for us

Neha Gautam ने कहा…

aap jitna simple likhte hai utna hi...dil ko chhu jati hai apki soch....anand ji aap bhot achcha likhte hai..wakai..!!

Smita ने कहा…

yadi samay ho to kabhi mere blog par bhi padharein......tareef nahi sirf pratikriya chahoongiiii...................abhi blog lekhan me naiii hoon na.....