सोमवार, फ़रवरी 28, 2011

jis path par shool bichhe na ho

जिस पथ पर शूल बिछे न हों ,
उस पथ पर चलना क्या चलना ,
जो काम कठिन न हो प्रियवर ,
उस काम को करना क्या करना ,
जो मरुथल में नदी बहाते हैं,
पर्वत की धूल उड़ाते हैं,
कंटक का मुखडा चूम -चूम ,
कंटक को फूल बनाते हैं , 
कुछ ऐसे वीरों के कंधे पर देश कोई चलता है ,
 रक्त चाट कर महा पुरूषों का समाज कोई बदलता है ,  
जीवन लघु से लघुतर है ,
इसके बीत जाने पर हाँथ का मलना क्या मलना ,
जिस पथ पर शूल बिछे न हों ,
उस पथ पर चलना क्या चलना, 
सूरज उगता है, तम बह जाता है,
जो मन में आता है ,कह जाता है ,
सिन्धु  तीर पर बना स्वप्न महल,
खुद- ब- खुद ढह जाता है ,
जो ह्रदय लगन से हीन हुआ , 
समझो वो पतित मलीन हुआ ,
वो शक्ति केंद्र ,वो महा बली , 
बस उसी दिवस  से दीन हुआ, 
जिस दीप से तम  मिटा नहीं, 
उस दीप का जलना क्या जलना ,
 जिस पथ पर शूल बिछे  न हों, 
उस पथ पर चलना क्या चलना , 
 तुम्हारा-- अनंत 
एक टिप्पणी भेजें