गुरुवार, फ़रवरी 24, 2011

                                ठहरा  हुआ उदास  सा पानी ,
                                  कहता हुआ  कुछ कहानी , 
                                      जब -जब मचलता है ,
                                   आँखों से कुछ निकलता है ,
                                   और चहेरा  भीग जाता है ,
                                    चिहराई हुई दीवारें ,
                               परत -दर -परत जब गिरती है ,
                                      कुछ जख्म टहलते है ,
                                       एक पीर बिखरती है ,
                       धुआं  माथे पर हाँथ रख कर बैठ जाता है,
                                  और चेहरा भीग जाता है ,
                                     एक सीढ़ी नुमा ख्याल ,
                            उतर कर दिल में छिप कर लेट जाता है ,
                                धडकनें सर पर हाँथ फेरती है ,
                            चाँद के चेहरे पर सूरज उभरता है ,
                             और फिर चेहरा भीग जाता है ,
                          कोई हवा जब ,फर्श पर पड़े  जर्रे को ,
                                     अर्श पर बिठाती है ,
                          उसके रुंधे हुए गले को माला पहनाती है ,
                    तो वो जर्रा रोते हुआ जमीन की ओर देखता है ,
                                  और चेहरा भीग जाता है ,
                                 जब आधी रात को ,दो  पेड़ ,
                             अकेले घुटनों तक रजाई ओढ़ कर ,
                                बरसात की बात करते है ,
                              तब न जाने कहाँ से आ कर ,
                             सावन का मेघ बरस जाता है ,
                               और चेहरा भीग जाता  है ,  
                                     तुम्हारा --अनंत  
एक टिप्पणी भेजें