रविवार, जून 11, 2017

मोरा पिया नहीं है पास..!!

पतंग याद की
रात की डोरी
उलझन का आकाश
मोरा पिया नहीं है पास-2

आग का दरिया
डूब के जाना
पानी में बहती प्यास
मोरा पिया नहीं है पास-2

शाम सी ढलती
रह रह जलती
जैसे दीपक में जले कपास
मोरा पिया नहीं है पास-2

खारे खारे
लम्हे सारे
मिट गयी सारी मिठास
कि मोरा पिया नहीं है पास-2

दरश जो पाऊं
मैं सुस्ताऊँ
सांस में आये सांस
मोरा पिया नहीं है पास
कि मोरा पिया नहीं है पास-2

तुम्हारा-अनंत

एक टिप्पणी भेजें